Punjab Kesari 2020-01-24

लव-जिहाद सच है या झूठ?

गत दिनों कैथोलिक बिशप की सर्वोच्च संस्था "द सायनॉड ऑफ साइरो-मालाबार चर्च" ने केरल में योजनाबद्ध तरीके से ईसाई युवतियों के मतांतरण का मुद्दा उठाया। लगभग उसी कालांतर में पाकिस्तान स्थित सिंध में तीन और नाबालिग हिंदू लड़कियों के अपहरण, जिसमें एक का मतांतरण के बाद जबरन निकाह कर दिया गया। धरातल पर कहने को दोनों मामले भारतीय उपमहाद्वीप के दो अलग हिस्सों से सामने आए है, किंतु इनका आपस में बहुत ही गहरा संबंध है। इन दोनों घटनाओं के पीछे एक ही विषाक्त दर्शन है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, 19 जनवरी (रविवार) को केरल स्थित साइरो-मालाबार चर्च के सामूहिक प्रार्थना के दौरान एक परिपत्र को पढ़ा गया। इसमें केरल सहित अन्य राज्यों की ईसाई युवतियों को प्रेमजाल में फंसाने और इस्लामिक स्टेट जैसे खूंखार आतंकवादी संगठनों में भेजे जाने के खिलाफ चेतावनी थी। इससे कुछ दिन पहले ही "द सायनॉड ऑफ साइरो-मालाबार चर्च" के कार्डिनल जॉर्ज एलनचेरी की अध्यक्षता में हुई बैठक में भी राज्य पुलिस पर "लव-जिहाद" के मामलों पर ठोस कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया था। जैसे ही लव-जिहाद का मामला पुन: विमर्श में आया, एकाएक केरल की वामपंथी सरकार ने आरोपों का खंडन कर दिया।
Mail Today 2017-11-17

Tipu Sultan is no hero. India needs to stop celebrating him

The Karnataka government has just celebrated the Tipu Sultan Jayanti. Last month, the country witnessed former President Pranab Mukherjee paying glowing tributes to Sir Syed Ahmed Khan, founder of Aligarh Muslim University (AMU) and father of Muslim separatism in the subcontinent. The occasion was the 200th birth anniversary of Sir Syed (he was born on October 17, 1817). Sir Syed is a part of the trio described in Pakistan schoolbooks as the spiritual founders of the Muslim state — the other two being Muhammad Iqbal and Mohammad Ali Jinnah.





123456789101112131415161718192021222324252627282930313233343536373839404142434445464748495051525354555657585960Next