Outlook India 2004-04-05

Mughlai Paranthas

How did relations between Hindus and Muslims evolve over the centuries following Mohammad bin Qasim’s invasion of Sind in 711 AD? Did the invaders have just imperial motives? Were they interested only in India’s phenomenal wealth, and not in bringing the vanquished under the flag of Islam by sword? These are questions that are important for understanding what led to the creation of Pakistan, and the complex relationship between Hindus and Muslims in the subcontinent. The Hindu-Muslim relationship is a complicated one, with interwoven layers of cooperation and confrontation. The secularists, which include communists of various hues, have repeatedly tried to simplify the phenomenon. In the process, the communists supported Jinnah’s demand for a theocratic Pakistan and have twisted history by selectively picking incidents and details to paint a rosy picture of Hindu-Muslim relations before the advent of the British.
Amar Ujala 0000-00-00

"लव-जिहाद" की सच्चाई

क्या "लव-जिहाद" वास्तविकता है या मिथक? यह प्रश्न इसलिए उठ रहा है, क्योंकि गत 24 नवंबर को उत्तरप्रदेश सरकार ने गैरकानूनी मतांतरण संबंधी अध्यादेश पारित कर दिया। मध्यप्रदेश, हरियाणा, असम और कर्नाटक की सरकारों ने भी ऐसा ही कानून लाने निर्णय किया है। प्रस्तावित प्रारूप के अनुसार, बहला-फुसलाकर, प्रलोभन, लालच, बलपूर्वक, झूठ बोलकर हुए मतांतरण को अपराध माना जाएगा और ऐसा करने वाले को 1-10 वर्ष कारावास हो सकती है। यह सभी लोगों पर समान रूप से लागू होगा। जैसे ही इसपर सार्वजनिक विमर्श शुरू हुआ, वैसे ही स्वघोषित सेकुलरिस्टों और वामपंथियों के कुनबे ने इसे सांप्रदायिक और प्रतिगामी बताकर सत्तारुढ़ भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को कटघरे में खड़ा कर दिया। इसी बीच विवाह हेतु मतांतरण पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय के दो निर्णय सामने आए। एक मामले में मुस्लिम युवती समरीन हिंदू से शादी पश्चात प्रियांशी बन गई, जिसे अदालत ने अवैध माना और कहा, "केवल विवाह के लिए मतांतरण वैध नहीं"। वही दूसरे घटनाक्रम में हिंदू युवती प्रियंका, सलामत अंसारी से निकाह पश्चात मुस्लिम बन गई, जिसे उसी न्यायालय ने "पसंद का जीवनसाथी चुनने का अधिकार" बता दिया।